महिलाओं में बांझपन का क्या कारण है और लैप्रोस्कोपी द्वारा इसका इलाज कैसे किया जा सकता है?



 Add to 

  Share 

283 views



  Report

admin
6 months ago

Description

डॉक्टर्स टॉक के इस एपिसोड में हम डॉ. आर. के. मिश्रा से बात करते हैं कि महिलाओं में बांझपन का क्या कारण है और लैप्रोस्कोपिक विधियों का उपयोग करके इसका इलाज कैसे किया जा सकता है। डॉक्टर्स टॉक के इस एपिसोड में हम डॉ आर. के. मिश्रा से बात करेंगे कि महिलाओं में बांझपन का क्या कारण है और लैप्रोस्कोपिक विधियों का उपयोग करके इसका इलाज कैसे किया जा सकता है। महिलाओं में बांझपन की पहचान एक लेप्रोस्कोपिक प्रक्रिया द्वारा किया जा सकता है, जो ट्यूबल पेटेन्सी की जांच करता है। लैप्रोस्कोपी की मदत से फलोपियन ट्यूब के रास्ते को खोला जा सकता है या फाइब्रॉएड (जिनके कारण बांझपन की समस्या होती है) को भी निकाला इया सकता है। लेप्रोस्कोपी का उपयोग कर डिम्बग्रंथि पुटी (ओवेरियन सिस्ट) को हटा कर भी भाँझपन का इलाज हो सकता है। महिला बांझपन क्या है? जब कोई महिला गर्भ धारण करने के लिए एक वर्ष या उससे अधिक समय तक असुरक्षित यौन संबंध रखती है और उसके बाद भी वह गर्भधारण करने में असमर्थ होती है, तो इसे बांझपन कहा जाता है। यह बांझपन आजकल लगभग 40 प्रतिशत महिलाओं में देखा जाता है। आयुर्वेद महिलाओं में प्रजनन प्रणाली की एक अलग तरह से पहचान करता है। जिसमें एक महिला 'श्रोणि' है जबकि रक्त और पोषण की आपूर्ति के लिए दो मुख्य 'स्रोत' हैं। रजोवाहा सॉर्टा - गर्भाशय, गर्भाशय ग्रीवा और योनि को रक्त और पोषण की आपूर्ति करता है। अर्तवाह सॉर्टा - इसके माध्यम से अंडाशय और फैलोपियन ट्यूब को रक्त की आपूर्ति संभव हो जाती है। आयुर्वेद के अनुसार गर्भधारण स्वस्थ शुक्राणु, स्वस्थ अंडे और स्वस्थ गर्भाशय से ही होता है। शुक्राणु 'पुरुषों और महिलाओं दोनों में स्वस्थ प्रजनन प्रणाली के लिए जिम्मेदार है और स्वस्थ शुक्राणु शरीर के अन्य सभी ऊतकों के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। अगर इसमें जरा सा भी दोष होगा तो महिला गर्भधारण नहीं कर पाएगी। महिलाओं में बांझपन के लक्षण - महिला बांझपन का कारक क्या है? यह सवाल उन हजारों महिलाओं के मन में आया होगा जो गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं, लेकिन दुर्भाग्य से जो गर्भवती नहीं हो पाती हैं। आज स्थिति यह है कि दुनिया में ऐसे हजारों जोड़े हैं जो संतानहीनता से जूझ रहे हैं और यह संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। हालांकि इस समस्या का पता लगाना आसान काम नहीं है, लेकिन महिलाओं में कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जो बाद में बांझपन का कारण बन सकते हैं, इसलिए जरूरी है कि इस पर ध्यान दिया जाए। अनियमित मासिक चक्र – सामान्य चक्र 28 दिनों का होता है। यदि मासिक धर्म चक्र 21 से 35 दिनों तक रहता है, लेकिन एक निश्चित आवृत्ति पर, यह अभी भी एक सामान्य स्थिति है। समस्या तब होती है जब उसमें अस्थिरता रहती है यानि कि कभी मासिक धर्म लंबे समय तक तो कभी अचानक रुक जाता है। एंडोमेट्रियोसिस भारी और दर्दनाक माहवारी का कारण बन सकता है और लगभग 20 से 40% महिलाओं में बांझपन का कारण होता है। इसके अतिरिक्त, संभोग के दौरान दर्द एंडोमेट्रियोसिस या पैल्विक सूजन के कारण हो सकता है। अचानक वजन बढ़ना, बाल झड़ना, थकान, चेहरे के बाल, सिर दर्द हार्मोनल विकारों के लक्षण हैं। हार्मोनल असंतुलन भी एक महिला में बांझपन का संकेत है। मुख्य रूप से महिलाओं में बांझपन के कारण, मासिक धर्म चक्र महिलाओं में प्रजनन प्रणाली के स्वास्थ्य का संकेत है, जो विभिन्न कारकों जैसे आहार, मानसिक तनाव, जीवन शैली, बहुत अधिक शारीरिक और मानसिक श्रम आदि से प्रभावित होता है। आयुर्वेद के अनुसार , महिला बांझपन के मुख्य कारण इस प्रकार हैं: वात दोष मुख्य रूप से अंडों में दोष पैदा करने के लिए जिम्मेदार होता है और इसलिए कई बार यह बांझपन का कारण बनता है। वात मुख्य रूप से भय, तनाव, चिंता, आघात और उपवास का कारण बनता है। ठंडे-सूखे और हल्के खाद्य पदार्थों का सेवन करने के कारण या कभी-कभी असंतुलित हो जाते हैं। पित्त दोष के परिणामस्वरूप फैलोपियन ट्यूब में निशान पड़ जाते हैं जो अंडे या अंडे के निषेचन में बाधा डालते हैं। जिससे संतानहीनता उत्पन्न होती है। अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूब या मोटी फैलोपियन ट्यूब, गर्भाशय फाइब्रॉएड और बढ़े हुए कफ के कारण बांझपन होता है।