रोबोटिक सर्जरी क्या है और इसके क्या लाभ हैं



 Add to 

  Share 

388 views



  Report

admin
6 months ago

Description

डॉक्टर्स टॉक के इस एपिसोड में हम बात करेंगे दुनिया के प्रसिद्ध लेपेरस्कोपिक और रोबोटिक सर्जन डॉ आर के मिश्रा से रोबाटिक सर्जरी के बारे में। रोबाटिक सर्जरी एक ऐसी आधुनिक तकनीक है जिसके द्वारा सर्जन एक कॉन्सोल से रोबोट का नियंत्रण करता है। रोबोट सर्जरी, या रोबोट-असिस्टेड सर्जरी, डॉक्टरों को पारंपरिक तकनीकों से अधिक सटीक, नम्यता और नियंत्रण के साथ कई प्रकार की मुश्किल प्रक्रियाओं को करने में मदत करता है। डॉ आर के मिश्रा भारत के पहले रोबाटिक सर्जनों में से एक हैं और गुरगाओं में स्थित वर्ल्ड लेपेरोस्कोपी हॉस्पिटल में दुनिया भर से आए हुए चिकित्सकों को लेपेरस्कोपी और रोबाटिक सर्जरी की ट्रैनिंग भी देते हैं। रोबोटिक सर्जरी एक प्रकार की न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी है। मिनिमली इनवेसिव का मतलब है कि ऑपरेशन बड़े चीरों के बजाय छोटे चीरों का उपयोग करके किया जाना चाहिए। रोबोटिक सर्जरी में कुशल सर्जन कंप्यूटर तकनीक का इस्तेमाल कर सर्जरी करते हैं। यह सर्जरी सामान्य सर्जरी से आसान होती है। इस प्रकार की सर्जरी का उपयोग हृदय, वक्ष, जठरांत्र, स्त्री रोग, हड्डी, रीढ़, प्रत्यारोपण सर्जरी, सामान्य सर्जरी और मूत्रविज्ञान में किया जाता है। रोबोट डॉक्टर के हाथों की गतिविधियों को कॉपी करता है, जिससे डॉक्टर का काम आसान हो जाता है। न्यूनतम आक्रमण के कारण बहुत कम रक्तस्राव होता है और संक्रमण का कोई खतरा नहीं होता है। इसके अलावा टिश्यू और मसल्स को ज्यादा चोट न लगने से रिकवरी भी तेजी से होती है। रोबोटिक सर्जरी से पहले क्या जानना जरूरी है? अगर आपको यह सर्जरी करवानी है तो इससे पहले आपको निम्नलिखित बातें जान लेनी चाहिए: रोबोटिक सर्जरी से पहले, इस सर्जरी के बारे में अपने डॉक्टर से मिलें और इसके प्रभावों और परिणामों के बारे में भी पूछें। सर्जरी से पहले किसी अन्य संभावित विकल्प के बारे में पूछें। यह सर्जरी किसी विशेष सर्जन या डॉक्टर की देखरेख में ही कराएं। यह जरूरी नहीं है कि यह प्रक्रिया आपके लिए सही हो, इसलिए सर्जरी से पहले अपने स्वास्थ्य की जांच करा लें। इससे पता चलेगा कि आप इस सर्जरी के लिए तैयार हैं या नहीं। सर्जरी के लिए अनुभवी डॉक्टरों को रेफर करें, इससे जटिलताओं की संभावना कम होगी। रोबोटिक सर्जरी के जोखिम और जटिलताएं क्या हैं? लैप्रोस्कोपिक सर्जरी और ओपन सर्जरी में शामिल जोखिम रोबोट सर्जरी के समान ही हैं। संक्रमण खून बह रहा है कार्डियोपल्मोनरी जोखिम बेहोशी रोबोट और तकनीक का इस्तेमाल इस सर्जरी को बिजली पर निर्भर बनाता है। जिससे इंटरनल बर्न भी हो सकता है। यह सर्जरी के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले कॉटरी डिवाइस से हो सकता है। इस जलती हुई चोट को आर्किंग कहते हैं। अगर रोबोट के हाथ से करंट टिश्यू में फैलता है तो टिश्यू भी इससे जल सकता है। आरएएलपी प्रक्रिया को करने के लिए शरीर की स्थिति को अत्यधिक चरम पर ले जाया जाता है। इससे तंत्रिका पक्षाघात का खतरा होता है। अधिक जानकारी के लिए https://www.laparoscopyhospital.com/ पर जाएं For more information please contact: World Laparoscopy Hospital Cyber City, Gurugram, NCR DELHI INDIA 122002 Phone & WhatsApp: +919811416838, + 91 9999677788